Tuesday, 31 December 2013

तुम्हारे ही अक़्स से जन्मी थी
वो जो मेरी सूरत रुमानी थी

॰॰॰॰ निशा चौधरी ।