Sunday, 15 December 2013

नभ मंडल शोभित तारिका से
अश्रु राग अश्रु ही लय थे
तब अश्रु सुर मेँ डूबी चंद्रिका थी
व्योम की छटा निराली थी
श्याम वारिद श्याम नभ
श्याम दृगोँ मेँ शोभायमान थे

स्वप्न लोक मेँ डूबी फिर भी
स्वप्न संजोए तुम्हारी थी

गतिमान थी धरा धुरी पे जैसे
वैसे ही मन चंचल था
अधरोँ पर मुस्कान अति
और करोँ मेँ पुष्प विहंगम थे

स्वप्न लोक मेँ डूबी फिर भी
स्वप्न संजोए तुम्हारी थी

सप्त तुरंग इंद्रियोँ के जैसे
वश मेँ नहीँ अब मेरे थे
अरण्य मन का घोर हुआ था
विहगोँ की किलकारी थी
तरणी बन तटिनी के तट पर
कैवल्य की चाह सुनहरी थी

स्वप्न लोक मेँ डूबी फिर भी
स्वप्न संजोए तुम्हारी थी ।

¤¤¤ निशा चौधरी ।