Tuesday, 31 December 2013

कभी जो ज़िंदा ख़्वाब हुआ करते थे
आज दफ़्न है किसी चौखट मेँ

॰॰॰॰ निशा चौधरी ।