Tuesday, 31 December 2013

ये ज़िन्दगी अब भी कम पड़ती है
कम पड़ती हैँ साँसेँ कभी कभी

॰॰॰॰ निशा चौधरी ।